Wednesday, March 30, 2011

लोकतांत्रिक मूल्यों में थी नेहरू की आस्था: रविंद्रा

यमुनानगर। पंडित जवाहर लाल नेहरू की लोकतंत्र और लोकतांत्रिक मूल्यों में आस्था थी। आधुनिक भारत के निर्माण में उनका अतुल्नीय योगदान है। उक्त शब्द चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ के पूर्व उप कुलपति पदमश्री डा. रविंद्रा कुमार ने डीएवी गल्र्स कालेज के नेहरू स्टडी सेंटर द्वारा नेहरू और समाजवाद विषय पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी के दौरान कहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कालेज प्रिंसिपल डा. सुषमा आर्य ने की।
डा. रविंद्रा कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय एकीकरण में नेहरू के योगदान को कभी भूलाया नहीं जा सकता। देश के पुन:निर्माण में पंडित नेहरू जी का योगदना समर्णिय है। किसी भी महान व्यक्ति के विचारों को पूर्वाग्रह से देखा जाता है। लेकिन हमें परिस्थितियों के अनुसार ही उनके विचारों का अपनाना चाहिए। देश के विकास के लिए उन्होंने टीम के रुप में कार्य किया। आज लोकतांत्रिक मूल्यों का ह्रास हो रहा है। जो कि गलत है।
गांधी मैमोरियल म्यूजियम एंड गांधी लाइब्रेरी नई दिल्ली के डिप्टी डायरेक्टर प्रोफेसर अनिल मिश्रा ने कहा कि हम विड़ंबनाओं के देश में रह रहे हैं और नेहरू जी विड़ंबनाओं को खतम करने की कौशिश की थी। नेहरू के सामने आजादी के दौरान कितनी चुनौतियां थी, इस बात का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि अगर पाकिस्तान नहीं बनता, तो आज हिंदूस्तान के अनेक टूकड़े हो गए होते। सरदार पटेल के एक पत्र से खुलासा हुआ है कि देश के विभाजन में पटेल, नेहरू व जिन्ना शामिल थे। नेहरू का उद्देश्य भारत को लोकतांत्रिक बनाना था। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, आईआईटी,  बाखड़ा डैम, इत्यादि सभी नेहरू जी की देन है। नेहरू ने देश में विज्ञान व कला को बढ़ाया दिया। लेकिन आज हम आजाद भारत के गुलाम नागरिक है।
कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय राजनीति शास्त्र विभाग के चेयरमैन प्रोफेसर आरएस यादव ने कहा कि नेहरू के विचारों में पूंजीवादी व माक्र्सवादियों का मिश्रण था। नेहरू सामाजिक बदलाव तो चाहते थे, लेकिन वे क्रांति के खिलाफ थे। नेहरू का समाजवाद अंतर्राष्ट्रीय स्थिति से जुड़ा हुआ है। नेहरू की सोच थी कि आखिरी आदमी तक योजना का लाभ पहुंचना चाहिए। तभी समाजवाद की सार्थकता सिद्ध होगी।
दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हिमांशु राय ने बताया कि वर्ष १९६२ में जब लोकसभा सत्र के दौरान अटल बिहारी बाजपेयी ने नेहरू जी की आलोचना की थी, तो तब नेहरू ने कहा था कि वह भविष्य का प्रधानमंत्री है। नेहरू जी की दूरदृष्टि थी। उन्होंने कृषि के विकास के लिए कारगर कदम उठाए। नरेगा अब लागू हुआ है, जिसकी बात उन्होंने वर्षों पहले की थी। राइट टू फूड एक्ट, रोजगार का अधिकार इन सबकी की शुरूआत नेहरू जी ने बहुत पहले कर दी थी।
एचआईआईआरडी नीलोखेड़ी के डायरेक्टर प्रोफेसर रणबीर सिंह ने कहा कि नेहरू जी द्वारा बनाए गए पब्लिक सेक्टर का लाभ पूंजीपतियों को मिला। जिस कारण उस समय अमीरों व गरीबों के बीच खाई बढ़ गई। अपने प्रधानमंत्री कार्यकाल में उन्होंने भूमि सुधार पर ध्यान दिया, लेकिन राज्यों के मुख्यमंत्रियों की वहज से सुधार नहीं हो पाया। नेहरू ने साम्यवादियों व समाजवादियों को साथ नहीं जोड़ा। समाजवादी नेहरू को समाजवादी नहीं मानते थे और पूंजीवादी उन्हें समाजवादी कहते थे। आज के बदलते युग में नेहरू जी के विचार उतने ही प्रासांगिक है, जितने उस समय थे।
पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ के सेवानिवृत प्रोफेसर पीएस वर्मा ने कहा कि जमींदारी प्रथा को खतम करने में नेहरू जी का योगदान था। वे मानते थे कि बड़े उद्योगों पर सरकार का कब्जा हो, ताकि अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मिल सकें। पंजाब यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर मनीष शर्मा ने इंटरनेशनल टैरिज़म व इंवायरमेंट क्लाइमेट्स चेंज पर विचार प्रकट किए। उन्होंने कहा नेहरू नवभारत का निर्माण करना चाहते थे। पंजाब यूनिवर्सिटी की प्राध्यापिका कनुप्रिया ने अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में नेहरू की भूमिका पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि प्रत्येक देश का कोड ऑफ कंडक्ट होना चाहिए। नेहरू स्टडी सेंटर के इंचार्ज प्रोफेसर मलकीत सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया। डा. आर्य ने कहा कि इस प्रकार के आयोजनों से छात्राओं के ज्ञान में वृद्धि होती है।

No comments:

Post a Comment

टिप्पणी के लिये धन्यवाद।