Thursday, January 6, 2011

यूपी का खनन बन रहा है बाढ़ बचाओ उपाय में रोड़ा

कटाव जारी यमुना में हो रहा लगातार खनन, स्टड लगाने में परेशानी

यमुना नदी में यूपी की ओर से खनन जारी है। जिसकी वजह से तटबंध टूट रहे हैं और नदी का कटाव जारी है। इससे स्टड निर्माण में भी दिक्कत आ रही है। ध्यान रहे हर साल नदी में के आसपास के क्षेत्रों को बाढ़ से बचाने के लिए स्टड बनाए जाते हैं। इससे तटबंध मजबूत हो जाते हैं । लेकिन खनन की वजह से इस बार स्टड बनाने के काम में कठिनाई आ रही है।

लाकड़-नवाजपुर के पास यूपी सीमा में चल रहे खनन के बारे में प्रशासन ने उच्चाधिकारियों को अवगत कराने का फैसला किया है। मंगलवार को डीसी ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ सीमावर्ती क्षेत्र का दौरा किया। वहां पर बाढ़ के खतरे को देखते हुए सिंचाई विभाग ने पांच स्टड लगाने की योजना बनाई थी लेकिन मौके पर चल रहे खनन कार्य को यमुना पर बसे प्रदेश के गांवों के लिए गंभीर खतरा मानते हुए सरकार को अवगत कराने का निर्णय लिया है। ताकि इस बारे में यूपी सरकार से बात की जाए।

यूपी की सीमा पर बसे गांव लाकड़, नवाजपुर, मालीमाजरा, कन्यावाला, भीलपुरा के ग्रामीण दोनों राज्यों की सीमा पर हरियाणा की ओर चल रहे खनन कार्य पर एतराज जताया था। इसके बाद यहां पर ग्रामीणों ने यूपी की ओर से आने वाली रेत, बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रालियों व अन्य वाहनों के गांव से गुजरने पर पाबंदी लगा थी। इससे यहां पर तनाव का माहौल भी पैदा हो गया था, लेकिन ग्रामीणों के दबाव के चलते रास्ते को खोलने की किसी की हिम्मत नहीं हुई।

डीसी ने कई अधिकारियों के साथ मंगलवार सीमावर्ती इस क्षेत्र का दौरा किया। सिंचाई विभाग को यमुना के साथ प्रदेश की सीमा में पांच स्टड लगाने थे, ताकि यमुना में आने वाले पानी से प्रदेश के गावों को कोई खतरा न हो। यहां पर उन्होंने देखा कि खनन चाहे यूपी की सीमा में हो रहा हो,लेकिन यह खनन यमुना नदी में यूपी की ओर होने की बजाय हरियाणा की ओर हो रहा है। इससे इस ओर बसे गांवों में खतरा ओर अधिक बढ़ जाएगा।

ग्रामीणों ने दोबारा की खनन रोकने की मांग: डीसी के इस दौरे में लाकड़ गांव में इक्ट्ठे हुए ग्रामीणों ने मांग रखी कि पहले भी वर्ष 2005 में यहां पर हुए खनन की वजह से बाढ़ आई थी। अब दोबारा से वही हालात पैदा किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह खनन यमुना में इसी ओर किया जा रहा है। जबकि यूपी ओर यह पूरी तरह से बंद है। ऐसे में पूरा खतरा उनके गांवों को हो जाएगा।

उच्च अधिकारियों को अवगत कराया जाएगा : इस बारे में डीसी अशोक सांगवान ने बताया कि उन्होंने मौके पर पाया कि यमुना में इस ओर हो रहे खनन से गांवों के लिए खतरा हो सकता है।

यह मसला इंटरस्टेट होने के कारण इस मामले में उच्चाधिकारियों को स्थिति की पूरी जानकारी दी जाएगी। यदि जरूरी हुआ तो वहां पर निशानदेही भी कराई जा सकती है। इसके अलावा सुरक्षा के लिए हर कदम उठाए जाएंगे।

1 comment:

टिप्पणी के लिये धन्यवाद।