Wednesday, November 24, 2010

रस स्‍वरूप हैं परमपिता परमात्‍मा

No comments:

Post a Comment

टिप्पणी के लिये धन्यवाद।